Siraj Faisal Khan's Photo'

सिराज फ़ैसल ख़ान

1991 | शाहजहाँपुर, भारत

सिराज फ़ैसल ख़ान

ग़ज़ल 10

नज़्म 13

अशआर 34

किताबों से निकल कर तितलियाँ ग़ज़लें सुनाती हैं

टिफ़िन रखती है मेरी माँ तो बस्ता मुस्कुराता है

  • शेयर कीजिए

हमें रंजिश नहीं दरिया से कोई

सलामत गर रहे सहरा हमारा

  • शेयर कीजिए

तिरे एहसास में डूबा हुआ मैं

कभी सहरा कभी दरिया हुआ मैं

  • शेयर कीजिए

दश्त जैसी उजाड़ हैं आँखें

इन दरीचों से ख़्वाब क्या झांकें

  • शेयर कीजिए

शायद अगली इक कोशिश तक़दीर बदल दे

ज़हर तो जब जी चाहे खाया जा सकता है

  • शेयर कीजिए

"शाहजहाँपुर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए