वजीह सानी

ग़ज़ल 10

अशआर 2

कोई दवा भी नहीं है यही तो रोना है

सद एहतियात कि फैला हुआ क्रोना है

  • शेयर कीजिए

'सानी' फ़क़त तुम्हारा लिखा जिन ख़ुतूत पर

वो तो कभी के ज़ाएद-उल-मीआ'द हो गए

 

चित्र शायरी 1

 

"कराची" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए