बाल कविता पर नज़्में

अम्मी

सवेरे सवेरे जगाती हैं अम्मी

अब्दुल बारी आरिफ़ जमाली