परवाना पर शेर

परवाना उर्दू शायरी का

वह इस्तिआरा है जिसने इश्क़ करने वालों के जांनिसारी के जज़्बे को अमर कर दिया। एक पतंग जो रोशनी पर दीवानों की तरह कुर्बान होता है, कैसे उर्दू शायरों के दर्मियान इस क़दर हर-दिल-अज़ीज़ है, इस राज़ से पर्दा उठाने के लिए परवाना शायरी का यह इंतिख़ाब शायद काफ़ी हो। आइये एक निगाह डालते चलेः

सब इक चराग़ के परवाने होना चाहते हैं

अजीब लोग हैं दीवाने होना चाहते हैं

असअ'द बदायुनी

होती कहाँ है दिल से जुदा दिल की आरज़ू

जाता कहाँ है शम्अ को परवाना छोड़ कर

जलील मानिकपूरी

तू कहीं हो दिल-ए-दीवाना वहाँ पहुँचेगा

शम्अ होगी जहाँ परवाना वहाँ पहुँचेगा

बहादुर शाह ज़फ़र

परवानों का तो हश्र जो होना था हो चुका

गुज़री है रात शम्अ पे क्या देखते चलें

शाद अज़ीमाबादी

मिस्ल-ए-परवाना फ़िदा हर एक का दिल हो गया

यार जिस महफ़िल में बैठा शम-ए-महफ़िल हो गया

जलील मानिकपूरी

जाने क्या महफ़िल-ए-परवाना में देखा उस ने

फिर ज़बाँ खुल सकी शम्अ जो ख़ामोश हुई

अलीम मसरूर

ख़ुद ही परवाने जल गए वर्ना

शम्अ जलती है रौशनी के लिए

सनम प्रतापगढ़ी

यूँ तो जल बुझने में दोनों हैं बराबर लेकिन

वो कहाँ शम्अ में जो आग है परवाने में

जलील मानिकपूरी

मत करो शम्अ कूँ बदनाम जलाती वो नहीं

आप सीं शौक़ पतंगों को है जल जाने का

सिराज औरंगाबादी

शम्अ पर ख़ून का इल्ज़ाम हो साबित क्यूँ-कर

फूँक दी लाश भी कम्बख़्त ने परवाने की

जलील मानिकपूरी

ये अपने दिल की लगी को बुझाने आते हैं

पराई आग में जलते नहीं हैं परवाने

मख़मूर सईदी

ख़ुद भी जलती है अगर उस को जलाती है ये

कम किसी तरह नहीं शम्अ भी परवाने से

अज्ञात

परवाने ही जाएँगे खिंच कर ब-जब्र-ए-इश्क़

महफ़िल में सिर्फ़ शम्अ जलाने की देर है

माहिर-उल क़ादरी

परवाने की तपिश ने ख़ुदा जाने कान में

क्या कह दिया कि शम्अ के सर से धुआँ उठा

इस्माइल मेरठी

इश्क़ में निस्बत नहीं बुलबुल को परवाने के साथ

वस्ल में वो जान दे ये हिज्र में जीती रहे

जाफ़र अली खां ज़की

मूजिद जो नूर का है वो मेरा चराग़ है

परवाना हूँ मैं अंजुमन-ए-काएनात का

आग़ा हज्जू शरफ़

शम्अ' बुझ कर रह गई परवाना जल कर रह गया

यादगार-ए-हुस्न-ओ-इश्क़ इक दाग़ दिल पर रह गया

अज़ीज़ लखनवी

तारीकी में होता है उसे वस्ल मयस्सर

परवाना कहाँ जाए शबिस्ताँ से निकल कर

मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

ख़ाक कर देवे जला कर पहले फिर टिसवे बहाए

शम्अ मज्लिस में बड़ी दिल-सोज़ परवाने की है

शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए